Apurn Kriya in Hindi Grammar (अपूर्ण क्रिया)

Share This:

अपूर्ण क्रिया (Apurn Kriya)

जिस क्रिया से इच्छित अर्थ नहीं निकलता, उसे अपूर्ण क्रिया कहते हैं। इसके दो भेद हैं- (1) अपूर्ण अकर्मक क्रिया तथा (2) अपूर्ण सकर्मक क्रिया ।
(a) अपूर्ण अकर्मक क्रिया कतिपय अकर्मक … Read More

Vidhi Kriya in Hindi Grammar (विधि क्रिया)

Dvikarmak Kriya in Hindi Grammar (द्विकर्मक क्रिया)

Share This:

द्विकर्मक क्रिया (Dvikarmak Kriya)

कभी-कभी किसी क्रिया के दो कर्म (कारक) रहते हैं । ऐसी क्रिया को द्विकर्मक क्रिया कहते हैं । जैसे-तुमने राम को कलम दी । इस वाक्य में राम और कलम दोनों कर्म (कारक) … Read More

Sajatiya Kriya in Hindi Grammar (सजातीय क्रिया)

Share This:

सजातीय क्रिया (Sajatiya Kriya)-

कुछ अकर्मक और सकर्मक क्रियाओं के साथ उनके धातु की बनी हुई भाववाचक संज्ञा के प्रयोग को सजातीय क्रिया कहते हैं । जैसे-अच्छा खेल खेल रहे हो । वह मन से पढ़ाई पढ़ता है … Read More

Purvkalik Kriya in Hindi Grammar (पूर्वकालिक क्रिया)

Share This:

पूर्वकालिक क्रिया (Purvkalik Kriya)-

जब कर्ता एक क्रिया को समाप्त करके तत्काल किसी दूसरी क्रिया को आरंभ करता है, तब पहली क्रिया को पूर्वकालिक क्रिया कहते हैं ।

जैसे- वह गाकर सो गया।
मैं खाकर खेलने लगा ।… Read More