यमक अलंकार (Yamak Alankar)

सार्थक परन्तु भिन्न अर्थ का बोध करानेवाले शब्द की क्रमश: आवृत्ति को यमक कहते हैं । यमक शब्द का अर्थ है दो । अत: इस अलंकार में एक ही शब्द का कम-से-कम दो बार प्रयोग आवश्यक है । यह प्रयोग दो बार से अधिक भी हो सकता है।

उदाहरण-
(1 ) कनक कनक ते सौगुनी मादकता अधिकाई ।
उहि खाये बौरात नर, इह पाये बौराई ।

इस दोहा में एक ‘कनक’ का अर्थ ‘सोना’ है, तो दूसरे ‘कनक’ का अर्थ ‘ धतूरा’ ।

(2) उधौ जोग जोग हम नाहीं । – इस पंक्ति में पहले ‘जोग’ का अर्थ ‘योग’ तथा दूसरे ‘जोग’ का अर्थ ‘योग्य’ है।
एक ही शब्द का अनेक अर्थों में प्रयोग के उदाहरण :

(1) त्यों ‘रसखानि’ वही रसखानि जु है रसखानि सो है रसखानि ।

(2) सारंग नयन बयन पुनि सारंग सारंग तसु सन्धाने ।
सारंग उपर उगल दुर्ड सारंग केलि करिए मधुपाने ॥

हिंदी व्याकरण | संज्ञा | सर्वनाम | विशेषण | क्रिया | क्रियाविशेषण | वाच्य | अव्यय | लिंग | वचन | कारक | काल | उपसर्ग | प्रत्यय | समास | संधि | पुनरुक्ति | शब्द विचार | पर्यायवाची शब्द | अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | हिंदी कहावत | हिंदी मुहावरे | अलंकार | छंद | रस

4 Comments on Yamak Alankar in Hindi Grammar | यमक अलंकार

  1. Thnk q…Im really satisfied with this…i liked it…it helped me a lot…i can easily unðerstand the meaning of YAMAK ALANKAR…Ŧhnk Q…☺

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *