Karmadharay Samas (कर्मधारय समास) – वह समास, जिसमें विशेषण तथा विशेष्य अथवा उपमान (जिससे उपमा दी जाए)




तथा उपमेय का मेल हो और विग्रह करने पर दोनों खण्डों में एक ही कर्ताकारक की प्रथमा विभक्ति रहे, तो कर्मधारय कहलाता है। जैसे-

शैलोन्नत-शैल के समान उन्नत,
आम्रवृक्ष-आम्र है जो वृक्ष,
नवयुवक-नया है जो युवक,
महात्मा-महान् है जो आत्मा।

Related Topics:
अव्ययी समास | तत्पुरुष समास | कर्मधारय तत्पुरुष समास | द्विगु तत्पुरुष समास | बहुव्रीहि समास | द्वन्द्व समास | नञ् समास



हिंदी व्याकरण | संज्ञा | सर्वनाम | विशेषण | क्रिया | क्रियाविशेषण | वाच्य | अव्यय | लिंग | वचन | कारक | काल | उपसर्ग | प्रत्यय | समास | संधि | पुनरुक्ति | शब्द विचार | पर्यायवाची शब्द | अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | हिंदी कहावत | हिंदी मुहावरे | अलंकार | छंद | रस

9 Comments on Karmadharay Samas Definition & Example (कर्मधारय समास)

  1. हिन्दी सिखने और सिखानेके लिए एक अभिनव पहल। और उदाहरणोके उम्मीद रखते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *