द्वितीया तत्पुरुष:

पद विग्रह
अग्निभक्षी अग्नि को भक्षण करनेवाला
कष्टसहिष्णु कष्ट को सह लेने वाला
कठफोड़वा काठ को फोड़ने वाला
कठखोदवा काठ को खोदने वाला
कुम्भकार कुम्भ को बनाने वाला
गगनचुम्बी गगन को चूमने वाला
गिरहकट गिरह को काटने वाला
गिरिधर गिरि को जो धारण करता है
गृहगत गृह को आहत
हिंदी व्याकरण | संज्ञा | सर्वनाम | विशेषण | क्रिया | क्रियाविशेषण | वाच्य | अव्यय | लिंग | वचन | कारक | काल | उपसर्ग | प्रत्यय | समास | संधि | पुनरुक्ति | शब्द विचार | पर्यायवाची शब्द | अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | हिंदी कहावत | हिंदी मुहावरे | अलंकार | छंद | रस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *