निश्चयवाचक सर्वनाम – (Nishchay Vachak Sarvanam)
जिस सर्वनाम के द्वारा पास या दूर स्थित व्यक्तियों, प्राणियों अथवा वस्तुओं की ओर संकेत किया जाए, उन्हें




निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं
जैसे
(क) वह मेरा मित्र है।
(ख) यह अमन का खिलौना है।
(ग) वे मोहन के चित्र हैं।
(घ) वे नेहा की पुस्तकें हैं।

इन वाक्यों में– वह, वे निश्चयवाचक सर्वनाम हैं, जो दूर स्थित वस्तुओं एवं व्यक्तियों की ओर संकेत कर रहे हैं, इन्हें दूरवर्ती
निश्चयवाचक सर्वनाम कहते हैं।

यह, ये भी निश्चयवाचक सर्वनाम हैं, जो निकटवर्ती वस्तुओं की ओर संकेत कर रहे हैं, अत: ये निकटवतीं
निश्चयवाचक सर्वनाम हैं।

हिंदी व्याकरण | संज्ञा | सर्वनाम | विशेषण | क्रिया | क्रियाविशेषण | वाच्य | अव्यय | लिंग | वचन | कारक | काल | उपसर्ग | प्रत्यय | समास | संधि | पुनरुक्ति | शब्द विचार | पर्यायवाची शब्द | अनेक शब्दों के लिए एक शब्द | हिंदी कहावत | हिंदी मुहावरे | अलंकार | छंद | रस

4 Comments on Nishchay Vachak Sarvanam (निश्चयवाचक सर्वनाम)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *